“A message to friends preparing for competitive examinations” by Jitendra Kumar Soni, IAS

Special Thanks to Dr. Jitendra Kumar Soni Sir, who have succeeded in igniting fire in millions and millions of youth ( including me ).
Grateful to Dr. Jitendra Kumar Soni Sir, for granting the permission to publish here “the 25th page of his Dairy”.

Last year, I felt stuck in life.
Doubt took over “I-Can-Do-It-Attitude”.
Failures and difficulties are indispensable part of life.
There seemed no escape as I had started complaining about life; thinking that “money” at times overrides “talent, hard-work and creativity”.
Then I came across a video by Dr.Jitendra Soni sir in which he addressed the aspirants of Civil Services at Utkarsh Sansthan, Jodhpur, Rajasthan.
I liked the video so much that I watched it over and over again.
It took a month for me to completely comprehend the message inherent in the video.
It provided me the requisite kick-start to my life; to again believe in miracles, hard-work and resurrect the “Innate-Ability-We-All-Are-Born-With”.

Here’s the link to the video’s :

1- https://m.youtube.com/watch?v=UNCVxKDZImQ

2- https://m.youtube.com/watch?v=AKwuQSbSBfs

Do have a look to them; they have the capability to transform your life.

》》What happened after I watched the video:

I was left with two choices; either to start working for my dreams or to settle with “what life offers without hard-work”  ( & continue complaining about life, situations and compromise with dreams.)
I chose to “Live My Dreams” and wish the same for all my readers.

Snippets from the video:

–  मेरा अंतिम सत्य मेरी जीत के साथ होगा ।

That’s the Right Attitude.
No matter how situations are today.
Know that they can be changed by persistent hard-work, dedication and honesty.
May be something could seem “IMPOSSIBLE” but it can be made “POSSIBLE” in the long-term.
Your success is closely correlated to sacrifices you make.
Until and unless you are willing to sacrifice “what you are” to become “what you wish”, it’s impossible to achieve anything significant.

– मेरी सेहत पर असर नहीं पड़ता ।

It doesn’t matter how many hours your competitors study.
It doesn’t matter if your competitors live in AC rooms or have studied in multi-storeyed schools.
What matters the most is “your actions”.
Stop COMPARING and start doing.
Prepare well that’s how you shall achieve success.

– लोग कमियाँ बतायेंगे ।

People shall point out your “short-comings”.
They will give you enough reasons and rational choices to quit chasing your dreams.
Don’t believe them.

– अपका चलना, बोलना… – एक जूनून  नज़र आना चाहिए।

Be so passionate about “what you do”.
Let your actions speak of your enthusiasm and motives.
If people around you cannot feel “the fire” in you; you are not preparing adequately.

– आप असफल हो गये कोई बात नहीं।

Success depends upon your “unwillingness to give-up”.
Don’t mind failures along the way.
Just increase your efforts.

– आम से ख़ास बनने मे पीढ़ीया गुजर जाती हैं।

Not all achieve BIG SUCCESS in life.
If you wish to go for it; don’t stop.
Keep pushing ahead relentlessly.

–  सारे नहीं  कर पाते ।

It’s a good news for you if you believe in hard-work and willing to go for your dreams with attitude “come-what-may”.

– कहीं ना कहीं कोई त्रुटि है ।
 
If you fail again and again then you need to rectify your short-comings.
Overcome them and have patience to go “from zero to till you achieve impeccable performance”.

– कुछ लोग सेब का भी सलाद खाते हैं ।

Life is full of ironies.
Some fail to make their ends meet each day.
On the other hand some live luxurious life.
Don’t be disappointed if you don’t have so called “resources”.
You can make your SUCCESS BIG without them.

And my favourite that is often recited by Dr. Jitendra Kumar Soni Sir:

खोटे सिक्कों के कभी दाम नही आते,
नीम के पेड़ पर कभी आम नही आते ।
जिस मंदिर की नीव मे भर दी गई हों लाशें- लाशें,
उस मंदिर में दर्शन देने को फिर कभी राम नहीं आते।
………………………………………………………….
Here’s is the 25th page of Dr. Jitendra’s Diary.
It first appeared as a “note on fb”.

मेरी डायरी – पच्चीसवां पन्ना [ प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले मित्रों के लिए ]
राजस्थान के कश्मीर ‘माउंट आबू’ के पर्वतों के बीच मैंने सोचा कि अपने साथी युवाओं के लिए क्या लिखूं ? उन्हें क्या बताऊं ? फिर पहाड़ों की ऊंचाई ने मुझे इसका जवाब दे ही दिया कि मैं आपसे यह बात साझा करूं कि जिन्दगी में ऊंचाई पर जाने की तमन्ना हर किसी की होती है मगर क्या हम सभी अपने सपनों को हकीकत में बदल पाते हैं। जवाब सब जानते हैं – नहीं! आखिर ऐसा क्या भिन्न होता है उन दो अभ्यर्थियों में जिनके पास एक जैसी शिक्षा, समान पुस्तकें और अन्य भौतिक समरूपताएं होती हैं फिर भी उनमें से एक तो कामयाबी का स्वाद चख लेता है और दूसरा फिर से एक बार कसम खाता है कि इस बार परीक्षा का फार्म भरते ही पढूंगा। प्रायः ऐसे अभ्यर्थी अपनी नाकामयाबियों का बोझ रिश्वत, मीडियम और शहर-ग्रामीण के जालदार शब्दों पर डाल देते
हैं। मित्रों, विश्वास करें कि यह जिन्दगी इतनी
कीमती है कि आप इसके साथ यह परीक्षण नहीं कर सकते हैं कि अगली बार………..सचमुच अगली बार पक्का ! एक बार खुद को ईमानदारी से झोंक कर तो देखें अपने सपनों के पीछे, बिना किसी
नकारात्मकता, पूर्वाग्रह या लीपापोती के। एक बार किसी दिन सुबह से शाम तक अपने सपने को अपने
साथ-साथ चलाइए, उसका आनंद उठाइए और सोचिए कि आगे चार-पांच साल के बाद अगर
आपको आपके सपने नहीं मिले तो आप क्या करेंगे उसके बिना। सारी जिन्दगी औरों के लिए तालियां
बजाने के लिए थोड़ी जन्में हैं हम। अपने वजूद को
साकार न कर पाने के मलाल के साथ गुमनामी के
पन्नों में बहुत से लोग मर जाते हैं। हमें नहीं मरना है, हम अपने सपनों को सच करने के लिए अपनी तमाम क्षमताओं के साथ न्याय करेंगे। जब तक हम कामयाब नहीं हो जाते हैं तब तक हम केवल अपनी धुन में रहेंगे, अपने सपने के पीछे…हमारा संसार होगा हमारे सपने, हमारी किताबें और परिवेश में बिखरा ज्ञान। हम अगर ठोकर भी खायेंगे तो फिर उठेंगे, अड़े रहेंगे, डटे रहेंगे और एक दिन तालियों की करतल ध्वनियों के बीच हम देखेंगे अपने सपने को अपनी आँखों के सामने साकार होते और मुस्कुराते हुए। ऊंचाई पर जाने की तमन्ना या तो करो ही मत और अगर कर लेते हो तो फिर संघर्ष के लिए तैयार रहो। मां शारदे का वरदहस्त न तो खिलंदड़पन में मिलता है और ना ही कागजी तैयारी में। मैं एक बात स्पष्ट कर देना चाहता हूँ कि कामयाबी का रिश्ता ना तो 13-14 घंटे की पढ़ाई से है और ना किताबों के ढेर से या चैक-जैक से। ये तो हारे हुए के लिए खुद की तसल्ली के साधन हैं। कामयाबी का सम्बन्ध तो उचित तैयारी के साथ है जो आपको किसी विषय वस्तु का विश्लेषण करना सीखा दे और अभिव्यक्त करने का सामर्थ्य दे दे। विनम्रता के साथ सीखने की अनवरत तथा अनथक कोशिश और खुद पर भरोसा ही मेरी नज़र में सबसे बड़ी ताकत है। हार मत मानिए, लगे रहिए और बता दीजिए पूरी दुनिया को कि आपका जन्म निराश लोगों में खड़े रहने के लिए नहीं हुआ है, अपितु सफलता की नई इबारत रखने के लिए हुआ है।
आखिर में आप सभी तैयारी करने वाले साथियों से
सिर्फ इतना ही कहना चाहता हूँ कि आम से ख़ास की तरफ बढि़ए, वर्ना जीते तो सभी हैं – वे भी जो कतार के सबसे पीछे हैं और वे भी, जो जहां खड़े होते हैं, कतार वहीं से शुरू होती है। चुनना आपके हाथ में है कि आप चंद कामयाब लोगों में शुमार होना चाहते हैं या उनमें जो अपने सपनों को सिसकते और दम तोड़ते हुए देखते हैं।

“ये नहीं कि हर जगह शुष्क जमीन ही मिले, जब चल पड़ा है प्यासा, तो दरिया जरूर आएगा।”

http://www.stayfoolish.in, wishes Dr. Jitendra Kumar Soni Sir Good Luck for his future endeavors.

With Great Love,

Er. Amit Yadav
http://www.stayfoolish.in

Life is easy…☺

Advertisements

9 thoughts on ““A message to friends preparing for competitive examinations” by Jitendra Kumar Soni, IAS

  1. Pingback: Quora
  2. http://google.biz says:

    These loans are quick and easy to try to get, which is probably the reason for their own huge attractiveness Currently there are a selection of absolutely
    free Play : Mesh Points packages to be had for their free of charge i — Phone online games, many of which are
    certainly not as often known as some of the major ones

    Like

  3. Jason says:

    With everything right in front people on the internet,
    such as a no faxing online payday loan, it gets hardly a couple of hours But, the wonderful
    point with them is that the curiosity charges are really economical so that your
    borrower may recognize this expenditures with out
    a good deal burden on his or her shoulders.

    Like

  4. कमलसिंह राजपूत says:

    txx u mr amit yadav & especially dr jitendra kumar soni , im Barry proud that dr.soni ia the DM of our district.
    Thyxz u vry mch sir 4 ऑलवेज inspiring us.

    Like

  5. Chatarsingh says:

    Sir aap ki vani kya gajab ka josh h jise dimak ki sari khidkiya khol di h
    Aap ka blog padh apne aap ko gorvanvit mahsush kar rha hu aap ki vani shakshat ma sharde ka niwash h
    Vary very thanks j.k.sahab

    Like

  6. my site says:

    It is actually a great and useful piece of information. I’m happy that you simply shared this useful information with us.
    Please stay us informed like this. Thanks for sharing.

    Like

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s